ऐसे बनता है आपका मोबाइल फ़ोन

 रविन्दर

आपके हाथों में या जेबों में विज्ञान की वह खोज है जो आपको दुनिया के एक-एक कोने से जोड़ देती है। हाँ, सही समझे, मैं मोबाइल फ़ोन की बात कर रही हूँ। जब भी कोई नया मोबाइल मार्किट में आता है तो जंगल की आग की तरह मध्यवर्ग में उसके ऐप, फ़ीचर जानने की, ख़रीदने की लहर दौड़ जाती है। फिर आप उसे अपने हाथों से छूते हैं, उँगलियों से उसके फ़ीचर जानते हैं, देखते हैं कि इसका कैमरा सेल्फ़ी (फ़ोटो) कितनी बढ़िया खींच सकता है। इसकी बैटरी कितने घण्टे चल सकती है। कोई-कोई अपनी जिज्ञासा व्यक्त करता हुआ यह भी जानने की कोशिश करता है कि इन महँगी बड़ी कम्पनियों के बनाये ऐनराॅयड, स्मार्टफ़ोन, आई-फ़ोन की मैन्युफै़क्चरिंग कैसे होती है।
चलिए आज हम इन मोबाइल फ़ोन, लैपटॉप में इस्तेमाल की जाने वाली बैटरियों के पीछे छिपी, अनदेखी मौत जैसी भयानक ज़िन्दगी की बात करते हैं।
इन बैटरियों (लीथीयम-आइन बैटरियाँ) को बनाने के लिए कोबाल्ट नाम की धातु इस्तेमाल की जाती है। इन लीथीयम-आयन बैटरियों का इस्तेमाल ऐपल, सैमसंग, सोनी, माइक्रोसाॅफ़्ट, डेल और बाक़ी कम्पनियाँ करती हैं। अब बात करें कि कोबाल्ट का स्रोत कहाँ है तो दुनिया के ग़रीब देशों में से एक देश (लेकिन कोबाल्ट का अमीर स्रोत) की तस्वीर आँखों के सामने आ जाती है। डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कोंगो देश जिसकी आबादी 67 मिलीयन है और 2014 में वर्ल्ड बैंक ने इस देश को मानवीय विकास सूचकांक पर पीछे से दूसरा नम्बर दिया है।
दुनिया-भर में जितना कोबाल्ट पैदा होता है, उसका आधा कोंगो से आता है और उसका 20% आर्टिसनल खदानों से निकाला जाता है। किसी व्यक्ति या कुछ व्यक्तियों के समूह द्वारा ग़ैर-क़ानूनी तरी़क़े से चलने वाली छोटे स्तर पर खदानों को आर्टिसनल खदानें कहा जाता है। या फिर यह भी कह सकते हैं कि कम-से-कम मशीनरी, टेक्नालॉजी से ये खदानें चलती हैं, जिनमें वहाँ काम कर रहे मर्द-औरत, बच्चे ही मशीनें होते हैं। जो अपने हाथों-पैरों को इस्तेमाल करके खानों को खोदते हैं, उनमें नीचे उतरते हैं और धातु की खोज में ख़ुदाई करते हैं। बच्चे मिट्टी में मिले हुए कोबाल्ट को अलग करते हैं। यहाँ जिस हद तक एक इन्सान से काम करवाया जा सकता है, वह करवाया जाता है। 4500 कोंगो निवासी इन खदानों में काम करते हैं। ये खदानें किसी के अन्तर्गत नहीं आतीं, देश के खदानों से सम्बन्धित क़ानून इस पर लागू नहीं होते, इन खदानों को चलाने वाले अपनी मर्ज़ी से थप्पड़-कौड़े मारते हुए, भूखे रखकर जैसे चाहे उन लोगों से काम ले सकते हैं। इन खदानों में ख़ुदाई के लिए उतरना ही इंसान के लिए विष उगलने के बराबर है। जो मज़दूर औरतें, मर्द, बच्चे खदानों में काम करते हैं, भयानक बीमारियों से ग्रस्त हैं। संयुक्त राष्ट्र के अनुसार इन खदानों में 40,000 बच्चे काम करते हैं, सबसे छोटे मज़दूर 6-7 वर्ष के बच्चे हैं, जो बोरियों में भरी कच्ची धातु उठाते हैं। जिनका भार उन बच्चों के भार से भी ज़्यादा होता है। 12-14 घण्टे काम करने के बाद भी माँ-बाप बच्चों को स्कूल भेजने के योग्य नहीं हो पाते। ज़्यादातर बच्चे, नौजवान छोटी आयु में ही मर जाते हैं। दिन-भर की मज़दूरी की 2 डॉलर दिहाड़ी मिलती है।
कोंगो के ज़्यादातर निवासी श्वास रोगों, जोड़ों के दर्द, अँधेरे में रहने के कारण आँखों की रोशनी का चले जाना जैसी बीमारियों से ग्रस्त हैं। लाखों लोग एड्स से पीड़ित हैं। जो मज़दूर लगातार ख़ुदाई करते हैं, कोबाल्ट के सम्पर्क में रहते हैं, उनको हार्ड मैटल लंग डिज़ीज़ फेफड़ों का रोग हो जाता है। वहाँ के एक प्रोफ़ेसर आर्थर कनीकी जो कि इन खदानों के वातावरण पर प्रभाव के बारे में अध्ययन कर रहे हैं, उनका कहना है कि ये कम्पनियाँ हमारे देश से लेकर तो बहुत कुछ जाती हैं, लेकिन देकर कुछ भी नहीं जातीं, सिवाय गन्दगी, बीमारियों, और भयानक ज़िन्दगी के।
वहाँ लगातार ख़ुदाई होने के कारण मिट्टी की उपजाऊ शक्ति ख़त्म हो चुकी है, वहाँ के पानी को पीने योग्य पानी ही नहीं कहा जा सकता है, कोंगो निवासी न ही कृषि कर सकते हैं और न ही कोई और काम, क्योंकि कोंगो अथाह धातुओं का भण्डार (कोबाल्ट, ताँबा, सोना, यूरेनियम) होने के कारण खदानों की धरती बन चुका है, वहाँ के लोगों के पास खदान मज़दूर बनने के सिवा कोई रास्ता नहीं, कोंगो की एक महिला निवासी ने बताया कि यहाँ का पानी पूरी तरह प्रदूषित हो चुका है, बच्चे इस पानी के कारण बीमार हो जाते हैं…।
आँकड़ों के अनुसार देखें तो यहाँ 30 लाख केस डायरिया के हैं और हर वर्ष एक लाख इंसानों की जान डायरिया के कारण चली जाती है।
हर वर्ष अनेकों लोगों की जानें जाती हैं और यह कोबाल्ट दुनिया-भर में जाता है। कोंगो से कोबाल्ट दुनिया-भर में सीडीएम (congo dongfang minig international) कम्पनी द्वारा चीन जाता है, चीन की कम्पनी हुआएऊ कोबाल्ट बैटरियाँ बनाती है बड़े स्तर पर और अलग-अलग कम्पनियाँ जो मोबाइल, लैपटॉप तैयार करती हैं, उनको भेजती है।
चीनी, अमेरिकन, यूरोपियन कम्पनियाँ जो बड़े स्तर पर मुनाफ़ा कमाती हैं, इन कम्पनियों को चलाने के लिए हर कोशिश करती हैं कि कैसे न कैसे करके बड़े मुनाफ़े कमायें और एक-दूसरे से आगे निकल जायें, लेकिन साथ ही इसके पीछे वे घोर जन-विरोधी भूमिका बाख़ूबी निभाती हैं। भले ही लूट प्राकृतिक स्रोतों की हो, इंसान को मशीन बनाने की दौड़ हो, इंसान से उसकी रोटी का आखि़री टुकड़ा, उसकी आखि़री साँस तक छीन लेने की बात क्यों न हो, वह इसी दौड़ में लगे रहते हैं। अपने मानवद्रोही चरित्र को छुपाने के लिए भले वे जितने मर्ज़ी तौर-तरी़क़े अपनायें, लेकिन सच यही है कि ख़ून पीने वाली जोंकों की तरह ये मुनाफ़ाखोर मानवीय ज़िन्दगियों को निगल रहे हैं। ख़ैर, भले ही कोई भी खदान हो, कोई भी कारख़ाना हो, फ़ैक्टरियाँ हो लाखों ही मज़दूरों को अपाहिज बना चुके हैं, लाखों मज़दूरों को मारकर निगल चुके हैं। खदानों, फ़ैक्टरियों में काम कर रहे मज़दूर जिनकी बदौलत हम अपनी ज़िन्दगी आराम से जी रहे हैं, भले वह मोबाइल की सुविधा हो या अपने जि‍स्म पर रंगदार कपड़े हों। उन मज़दूरों के स्वास्थ्य, उनकी ज़िन्दगी कीड़े-मकौड़ों से भी बदत्तर है। बच्चे जो कहने को तो संविधान की पोथियों में पढ़ने के हक़दार हैं, खेलने के हक़दार हैं, बाल-मज़दूरी ग़ैर-क़ानूनी है, वहीं बड़ी गिनती में ये बच्चे अपनी उम्र से ज़्यादा काम, अपने भार से ज़्यादा भार ढोते हैं।
सच्चाई तो यह है कि मुनाफ़े पर टिकी व्यवस्था में श्रमिकों की ज़िन्दगी नर्क बनी हुई है। उन्हें न तो कहीं कोई सहायता मिलती है और न ही कहीं से इंसाफ़ मिलता है। न उसकी सुनवाई सरकार करती है, न अदालत करती है, न ही प्रशासन। ऐसे में उनके पास संगठित होकर अपने अधिकारों के लिए ख़ुद लड़ने के सिवा कोई रास्ता नहीं है। यह किसी एक देश की कहानी नहीं है, हर जगह आज मानव श्रम को लूटा जा रहा है। उनको भी तो ज़िन्दगी जीने का अधिकार है, उनको स्वास्थ्य सुविधाएँ मिलें, मुआवज़े मिलें। लेकिन सिर्फ़ इतना ही काफ़ी नहीं होगा। पूँजीवादी व्यवस्था जब तक क़ायम रहेगी, श्रमिकों की ज़िन्दगी में कोई बुनियादी सुधार नहीं आने वाला। इसलिए ज़रूरी है कि मानवद्वेषी, मुनाफ़े पर टिकी हुई इस पूँजीवादी व्यवस्था को उखाड़ फेंका जाये और एक अच्छा समाज बनाया जाये, जिसमें सबको जीने का अधिकार हो।

 

मज़दूर बिगुल, जून 2017

'मज़दूर बिगुल' की सदस्‍यता लें!

 

ऑनलाइन भुगतान के अतिरिक्‍त आप सदस्‍यता राशि मनीआर्डर से भी भेज सकते हैं या सीधे बैंक खाते में जमा करा सकते हैं। मनीआर्डर के लिए पताः मज़दूर बिगुल, द्वारा जनचेतना, डी-68, निरालानगर, लखनऊ-226020 बैंक खाते का विवरणः Mazdoor Bigul खाता संख्याः 0762002109003787, IFSC: PUNB0076200 पंजाब नेशनल बैंक, निशातगंज शाखा, लखनऊ

आर्थिक सहयोग भी करें!

 

प्रिय पाठको, आपको बताने की ज़रूरत नहीं है कि ‘मज़दूर बिगुल’ लगातार आर्थिक समस्या के बीच ही निकालना होता है और इसे जारी रखने के लिए हमें आपके सहयोग की ज़रूरत है। अगर आपको इस अख़बार का प्रकाशन ज़रूरी लगता है तो हम आपसे अपील करेंगे कि आप नीचे दिये गए Donate बटन पर क्लिक करके सदस्‍यता के अतिरिक्‍त आर्थिक सहयोग भी करें।

 

 

Lenin 1बुर्जुआ अख़बार पूँजी की विशाल राशियों के दम पर चलते हैं। मज़दूरों के अख़बार ख़ुद मज़दूरों द्वारा इकट्ठा किये गये पैसे से चलते हैं।

मज़दूरों के महान नेता लेनिन

Comments

comments